russ 1

दिल्ली। सौन्दर्य प्रतियोगिता के बाद जहां विजेताओं के साथ लोगों को खुश होना चाहिए, वहीं रूस में हंगामा शुरू हो गया है। महिला जेल अधिकारियों के बीच रूस में सौंदर्य प्रतियोगिता आयोजित हुई है। प्रतियोगिता पर महिलाओं को ऑब्जेक्टिफाई करने का आरोप लगाया है। मिस पेनल सिस्टम कॉन्टेस्ट 2021 में रूस भर की महिला गार्डों ने एक छोटा वीडियो प्रस्तुत किया है, जिसमें उनसे नृत्य करने, अपने पेशे को ग्लैमराइज करने, अपने क्षेत्र की सुंदरता का विज्ञापन करने के लिए कहा गया था। महिलाओं को कहना है कि इस प्रतियोगिता के जरिए उन्हें एक वस्तु की तरह पेश किया गया। महिला अधिकारियों की जेल की वर्दी में और फैशनेबल कपड़ों में तस्वीरें जमा करने को लेकर भी लोग सवाल उठा रहे हैं। बताया जा रहा है कि किसी प्रतियोगी को विजेता चुने जाने से पहले ज्यादातर पुरुष पैनल के साथ-साथ एक ऑनलाइन पोल से भी निर्णय लिया जाएगा। महिला के हितों के लिए काम करने वाले नास्त्य कसीसिलनिकोवा ने इस कार्यक्रम को ‘दुखद’ करार दिया। उन्होंने कहा कि यह महिलाओं को वस्तु बनाने जैसा है।

प्रतियोगियों में समारा की सीनियर लेफ्टिनेंट अनास्तासिया ओकोलोवा ने कहा कि उसने बचपन से ‘कंधे की पट्टियाँ पहनने’ और जेल में नौकरी करने का सपना देखा था। इस प्रतियोगिता में वह इंटरनेट पोल में दूसरे स्थान पर हैं। व्लादिमीर क्षेत्र की कैप्टन एकातेरिना वासिलीवा एक फैशन मॉडल बनना चाहती थीं लेकिन फिर उन्होंने अपने परिवार की परंपरा का पालन किया। जेल प्रहरी बनने वाली तीसरी पीढ़ी में शामिल होने का फैसला किया। वह पेशेवर घुड़सवारी भी करती हैं।

साइबेरिया के पहाड़ी तुवा गणराज्य की रहने वाली लेफ्टिनेंट डायना सैट इंटरनेट वोटिंग में शीर्ष पर थीं। वह लॉ कॉलेज से स्नातक होने के बाद पिछले साल जेल सेवा में शामिल हुईं। वह इस सौंदर्य प्रतियोगिता में प्रागैतिहासिक रानी के रूप में पेश हुईं। लेफ्टिनेंट याना कोंड्राशोवा रूस के सबसे बड़े द्वीप सखालिन में सेवा करती हैं। जब उन्होंने फेडरल पेनिटेंटरी सर्विस अकादमी में अध्ययन किया तो ड्रमर की एक प्लाटून में सेवा भी दी थी।

ये भी पढ़ेंः-ग्लैमरस अंदाज में ऐसी दिखती हैं संजय दत्त की मान्यता, सोशल मीडिया पर करती हैं यह काम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here