मुम्बई। भारतीय सिनेमा विदेशी अभिनेत्रियों को भी अपनी और आकर्षित किया है। फिल्म इंडस्ट्री में आज के दौर में कैटरीना कैफ उन सफल अभिनेत्रियों में शुमार हैं, जो एक विदेशी हैं। वहीं आलिया भट्ट जैसी नायिकाओं के पास विदेशी नागरिकता है, जबकि काम भारत में करती हैं व रहती भी यही हैं। बहरहाल, बॉलीवुड में कई ऐसी अभिनेत्रियां हैं, जो बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक अपना जलवा बिखेर चुकी हैं। वहीं कुछ अभिनेत्रियां बॉलीवुड में ऐसी भी रही हैं। जिन्होंने विदेश की सीमा लांघकर बॉलीवुड में नाम कमाया है। हिंदी फिल्मों की दुनिया में विदेशी हसीनाओं का आना नया नहीं हैं। आज भी कई अभिनेत्रियां हैं जो हिन्दी फिल्मों के रंग में रंगकर बस यहीं की होकर रह गई हैं। इन अभिनेत्रियों ने हिंदी सिनेमा जगत में अपना योगदान देकर अपनी अलग पहचान बनाई।
60 और 70 के दशक में मुमताज ने बॉलीवुड पर राज किया। मुमताज ने अपने फिल्मी करियर में कई बेहतरीन फिल्में दीं और टॉप की अभिनेत्रियों में शामिल हो गईं। मुमताज की जड़ें ईरान से जुड़ी हैं, उनका पूरा नाम मुमताज अस्कारी है। मुमताज के माता-पिता अब्दुल सलीम अस्कारी और हबीब आगा ईरान से भारत आए थे। हालांकि 1947 में, मुमताज के जन्म के ठीक एक साल बाद दोनों का तलाक हो गया था। वैसे मुमताज भी अब विदेशी हो चुकी हैं। एनआरआई कारोबारी मयूर माधवानी से शादी के बाद मुमताज लंदन जा बसी थीं।
हेलन को बॉलीवुड में ‘कैबरे क्वीन’ के नाम से जाना जाता है। हेलन सलीम खान की पत्नी और सलमान खान की दूसरी अम्मी हैं। हेलन का जन्म बर्मा में हुआ था। दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान हेलन ने अपने पिता को खो दिया था, जिसके बाद वह जंगल के रास्ते छिपते-छिपाते अपने परिवार के साथ भारत पहुंची थीं। परिवार का पेट पालने के लिए हेलन ने फिल्मों में बतौर डांसर काम करना शुरु किया था। वहीं जब हेलन ने हिन्दी फिल्मों में कदम रखा तब फिल्मों में आइटम डांस कम ही होते थे, लेकिन हेलन के आने के बाद हिन्दी फिल्मों में आइटम सॉन्ग्स और कैबरे डांस की शुरुआत हुई, जिसके बाद फिल्म में हुस्न और डांस का तड़का लगाने के लिए हर डायरेक्टर की पहली पसंद हेलन ही हुआ करती थीं।
1952 में रिलीज हुई फिल्म ‘आन’ से नादिरा ने हिन्दी फिल्मों में कदम रखा था। पहली फिल्म से ही नादिरा स्टार बन गई थीं। नादिरा को उनकी रौबदार अदायगी के लिए आज भी जाना जाता है। नादिरा का जन्म इराक के शहर बगदाद में एक यहूदी परिवार में हुआ था। उनका असल नाम फ्लोरेंस एजेकेल था। 16-17 साल की उम्र में नादिरा एक शादी में शामिल होने के लिए भारत आई थीं। जब डायरेक्टर महबूब खान ने उन्हें अपनी फिल्म आन में साइन कर लिया था। इसके बाद तो नादिरा की रग-रग में हिन्दुस्तान ऐसे बसा कि अपनी वसीयत में उन्होंने यहूदी होने के बावजूद खुद को दफनाने की बजाय हिंदू रीतियों से जलाकर अंतिम संस्कार की इच्छा जताई थी।
1982 में आई फिल्म ‘निकाह’ में निलोफर का किरदार निभाकर रातों रात मशहूर हो गई थीं खूबसूरत पाकिस्तानी एक्ट्रेस और सिंगर सलमा आगा। कराची में जन्मी सलमा लंदन में पली-बढ़ी थीं। लंदन में रहते हुए ही उन्हें कई हिन्दी फिल्मों के डायरेक्टर्स फिल्मों के ऑफर देने लगे थे। निकाह के बाद उन्होंने हिंदी ही नहीं तमिल, तेलुगु और मलयालम फिल्मों में भी काम किया। हालांकि उन्होने एक्टिंग की बजाय सिंगिग को ज्यादा तवज्जो दी।

इसे भी पढ़ें:सस्ती बिकिनी पहनकर पूल में उतरीं काजल अग्रवाल, कीमत सुनकर हैरान रह गये लोग