Shikara Review: कश्मीरी पंडितों के दर्द को बयां करती है फिल्म ‘शिकारा’, प्यार के जरिए दिखाए लाखों लोगों के जख्म

0
488
shikara_movie

‘ऐ वादी शहजादी बोलो कैसी हो
कुछ बरसों से टूट गया हूं खंडित हूं
वादी तेरा बेटा हूं मैं पंडित हूं…’

भारत देश का अभिन्न हिस्सा कश्मीर। यहां के हालातों के बारे में देश का बच्चा-बच्चा जानता है। हर कोई जानता है कि, किस तरह से कश्मीर हमेशा से ही मुश्किलों से घिरा रहा है। कभी लोगों पर आतंकी हमले, कभी अत्याचार तो कभी सुविधाओं से वंचित रहना। लोगों की इन सभी परेशानियों का अंदाजा लगाना बेहद मुश्किल है। क्योंकि, हम सब सिर्फ जानते हैं लेकिन, उन मुश्किलों को महसूस करना नामुमकिन है। इन्हीं लोगों में शामिल हैं कश्मीरी पंडित जिन्हें अपने देश में रिफ्यूजी की तरह रहना पड़ा है और इन्हीं कश्मीरी पंडितों की कहानी को बयां करती है बॉलीवुड डायरेक्टर विधु विनोद चोपड़ा की फिल्म शिकारा। जिसमें सिर्फ दर्द नहीं बल्कि वो तकलीफें है जिसे देखकर आप और हम कश्मीरियों की तकलीफों को महसूस कर सकते हैं।

इस फिल्म की शुरुआत होती है एक प्रेम कहानी से। जिसमें शिव कुमार धर और उसकी पत्नी शांति। जो पंडित हैं और अपनी खुशहाल जिंदगी को कश्मीर घाटी में खुशी-खुशी बिता रहे हैं। इस बीच शुरू होता है 80 के अंत का जब घाटी में जन्म लेता है सांप्रदायिक तनाव। जो सिर्फ वहां के लोगों का ही नहीं बल्कि शिव और शांति के जीवन का भी सुख छीन लेता है। इसके बाद इन्हें छोड़ना पड़ता है अपना वो घर जिसे इन्होंने एक-एक पाई कमाकर बनाया। फिल्म में शिव का किरदार एक्टर आदिल खान और शांति का किरदार सादिया निभा रही हैं। दोनों ने अपनी दमदार एक्टिंग से फिल्म में जान डाली है।

तकलीफें झेलकर भी हर परिस्थिति में हंसना सिखाती है फिल्म
इस फिल्म में शिव जो श्रीनगर में एक टीचर के पद पर होते हैं। उनका दुख, तकलीफ, दर्द, आंसू देखकर यकीनन आपका दिल सहम जाएगा। तो वहीं शांति का किरदार देखकर आपका दिल खुश होगा। क्योंकि, अपने घर को छोड़कर रिफ्यूजी कैंप में जाकर बस जाना और हर समय डर के माहौल में रहने के बावजूद चेहरे पर हंसी और पति को संभालने की हिम्मत। वाकई काबिल-ए-तारीफ है। इस फिल्म में शिव और शांति की केमिस्ट्री और रोमांस वाकई खूबसूरत है। इनका प्यार और समझदारी आपको इस फिल्म को बार-बार देखने पर मजबूर भी करेगा। वहीं इस फिल्म में सादिया और आदिल के अलावा प्रियांशु चटर्जी संग अन्य सपोर्टिंग एक्टर्स ने भी अपने-अपने रोल अच्छे से किए हैं।

प्यार हमेशा रहता है साथ
फिल्म देखने के बाद आपको अच्छा लगेगा और अगर आप एक प्यारी सी स्टोरी देखना चाहते हैं और खूबसूरत प्रेम कहानी तो आपको ये फिल्म जरूर देखनी चाहिए। क्योंकि, इस फिल्म में प्यार और रोमांस से तो भरपूर ही है साथ ही इसमें घाटी का वो चेहरा भी है जिसे शायद आपने और हमने सिर्फ खबरों में देखा और सुना है। बीच में फिल्म आपको रुला भी सकती है क्योंकि, अपने देश अपने वतन को छोड़ना हर इंसान के लिए मुश्किल होता है। एक पल में आपके दिन और साल बदल जाते हैं और रह जाती हैं तो सिर्फ मुश्किलें। लेकिन, साथ रहता है तो सिर्फ आपका प्यार जो हमेशा हर परिस्थिति में साथ देता है, दर्द बांटता है और हिम्मत देता है संभलने की।

आपको बता दें, ये कहानी सिर्फ शिव और शांति नहीं बल्कि 4 लाख कश्मीरी पंडितों के दर्द को बयां करती हैं। जो अपने देश में ही गैरों की तरह रहते हैं। इस फिल्म के गानों को इरशाद कामिल ने लिखा है जबकि, सिंगर पापोन ने अपनी आवाज दी है। इस फिल्म में ए आर रहमान और कुतुब-ए-कृपा का कंपोज किया बैकग्राउंड स्कोर भी बेहद खूबसूरत है। बहरहाल, एक प्रेम कहानी और कश्मीरी पंडितों का दर्द आपको अंदर तक हिला कर रख देगा। इस फिल्म को आपको जरूर देखना चाहिए।

फिल्म:Shikara
कलाकार:Aadil Khan, Sadia, Priyanshu Chatterjee
निर्देशक:Vidhu Vinod Chopra
स्टार्सः 4.5

ये भी पढ़ेंः- वैलेंटाइन वीक में रिलीज हुईं ये 6 फिल्में, हिना खान और दिशा पाटनी के बीच होगी कड़ी टक्कर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here