मुम्बई। जानी-मानी अभिनेत्री सयानी गुप्ता ने हैरान कर देने वाला खुलासा किया। सयानी गुप्ता ने इस बातचीत में आगे बताया कि अगर मुझे अपने जीवन में इसी तरह की समस्या का सामना करना पड़ता है तो शायद मैं नहीं कर पाउंगी, ये दर्दनाक होगा। धोखा दिया जाना निश्चित रूप से अच्छा नहीं है, चाहे आप कोई भी हों, लेकिन ऐसा बहुत होता है।

अभिनेत्री ने आगे कहा कि ईमानदारी से कहूं तो मुझे बहुत डर लगता है, ये एक कारण है कि मैं शादी नहीं करना चाहती क्योंकि मुझे पसंद है, क्या होगा अगर? इन दिनों विकल्प भी अधिक हैं, हर कोई अधिक सुलभ है, मैं ओपन रिलेशनशिप को नहीं समझती, यह एक कारण है कि मैं कहती हूं, ‘नहीं भाई शादी तो नहीं करनी है, कुछ होगा तो मैं नहीं माफ कर पाउंगी।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Sayani (@sayanigupta)

गौरतलब है कि एंथोलॉजी ‘काली पीली टेल्स’ आज लॉन्च होने वाली है, छह अनोखी कहानियां बदलाव एवं स्वीकृति के चौराहे पर खड़े युवाओं, शहरी पात्रों के इर्द-गिर्द घूमती हैं, जिसमें विनय पाठक, गौहर खान, सयानी गुप्ता, मानवी गगरू, सोनी राजदान, हुसैन दलाल, शारिब हाशमी, प्रियांक्षी पेन्युली, तन्मय धनानिया, सादिया सिद्दीकी और अदीब रईस जैसे लोकप्रिय सितारे नजर आने वाले हैं।

सयानी गुप्ता ने फिल्मों में शुरुआत 2012 में ‘सेकेंड मैरिज डॉट कॉम’ से की थी, लेकिन उन्हें ज्यादा तारीफें और सुर्खियां दूसरी फिल्म ‘मार्गरीटा विद ए स्ट्रॉ’ से मिली। इसके बाद वह 2015 में ‘पार्च्ड’ में नजर आईं। इन फिल्मों के अलावा सयानी ‘जग्गा जासूस’, ‘फुकरे रिटर्न्स’, ‘जॉली एलएलबी 2’ जैसी फिल्में भी कर चुकी हैं, कुछ समय पहले उन्होंने आयुष्मान खुराना के साथ ‘आर्टिकल 15’ में अभिनय ​किया था।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Sayani (@sayanigupta)

वेब सीरीज ‘फोर मोर शॉट्स प्लीज से अपनी खास पहचान बनाने वालीं एक्ट्रेस सयानी गुप्ता सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं, वह जल्द ही अमेजॉन मिनी टीवी पर आने वाली एंथोलॉजी ‘काली-पीली टेल्स’ में नजर आने वाली हैं। इस सीरीज की 6 कहानियां हैं, इन कहानियों के जरिए मुम्बई शहर में प्यार, रिश्तों और जीवन की जटिलताओं को अच्छी तरह से दर्शाया गया है, अपनी किरदारों से लोगों के दिलों में खास जगह बनाने वालीं सयानी गुप्ता को शादी से बेहद डर लगता है।

इसे भी पढ़ें:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमनाथ मंदिर में कई परियोजनाओं का किया शिलान्‍यास, कहा-अधिक समय तक नहीं रहता आतंक का अस्तित्व