Rekha

बॉलीवुड(Bollywood) की फेमस अदाकारा रही रेखा(Rekha) के हुस्न के चर्चे आज भी उतने ही ही, जितने की शुरु के दौर पर होते थे। सालों से रेखा लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाए हुए हैं। फिल्मों के अलावा रेखा की पर्सनल लाइफ भी काफी चर्चा में बनी रही है। रेखा ने काफी बुरे दिन भी देखे है, उनका जीवन शुरुआती दौर से ही मश्किलों भरा रहा है। रेखा के हसबैंड के खत्म होने के बाद उनपर ये आरोप लगाया गया कि रेखा के कारण ही उनके पति मुकेश अग्रवाल ने सुसाइड जैसा बड़ा कदम उठाया था। आज हम बात करेंगे रेखा के पति ने मरने से पहले जो सुसाइड नोट लिखा था, उसके बारें में..

इसे भी पढ़ें- आर्थिक तंगी से पाक के बिगड़े हालात, भारत के रेलवे कोच को नहीं कर रहा वापस

साल 1990 में रचाई थी शादी

रेखा ने मुकेश से साल 1990 में शादी रचाई थी। मुकेश इस टाइम के जाने माने बिजनेसमैन थे और निकिताशा ब्रांड के मालिक थे। शादी होने के एक साल में ही मुकेश ने फांसी लगा ली। ये साल 1991 था। बताया जाता है कि वो दुपट्टा रेखा का था, लेकिन जांच में ये बात सामने नहीं आ पाई थी। मुकेश के मरने के बाद उनका सुसाइड नोट मिला, लेकिन उसमें साफ तौर पर उनकी मौत का जिम्मेदार कौन था इस बारें में किसी को ना पता चल पाया। मुकेश के सुसाइड नोट में लिखा था कि वो चाहते थे कि उनका भाई उनकी दोस्त आकाश बजाज और उनके बच्चों की देखभाल करें, क्योंकि आकाश, मुकेश के मनोचिकित्सक थीं।

मेरी संपत्ति से रेखा को ना मिले कुछ

रेखा के लिए किताब लिखने में यासिर उस्मान ने इस बात का जिक्र किया था। मुकेश ने अपने सुसाइड नोट में लिखा था कि मेरी संपत्ति में से रेखा को कुछ ना मिलेग। मैं उनके लिए कुछ भी छोड़ के नहीं जा रहा हूं, वह खुद कमाने में सक्षम हूं।

रेखा ने नहीं लिया एक भी पैसा

आपकों बता दें कि दिल्ली के पूर्व पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार मुकेश अग्रवाल के करीबी मित्र थे। बातचीत में उन्होंने बताया था कि मुकेश की मौत के बाद रेखा ने अपने परिवार से कभी कोई चीज नहीं ली। इतना ही नहीं मुकेश के भाई ने भी इस बात को साफ किया था कि जो लोग ये सोचते हैं कि रेखा ने पैसों के लिए मुकेश से शादी की थी, तो उनको मैं बता दूं कि उन्होंने कभी कुछ ना लिया।

इसे भी पढ़ें-कन्नौज में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर ट्रक में घुसी कार, 6 लोगों की मौत