जमानत के लिए रिया चक्रवर्ती ने चला नया दांव, 20 पन्नों की अर्जी में बोली- मजबूर किया गया

145
Rhea chakraborty bail application

rhea-chakrabortyसुशांत सिंह राजपूत की मौत कैसे हुई? ये सवाल जस की तस खड़ा हुआ है. लेकिन ड्रग्स मामले पर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने कार्रवाई करते हुए रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया था और इसके बाद रिया को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. इस बीच रिया के वकील ने जमानत की अर्जी लगाई है. जिसमें दावा किया गया कि, बयान देने के लिए उन्हें मजबूर किया गया. रिया की जमानत अर्जी पर आज एक विशेष अदालत सुनवाई करेगी. लेकिन रिया को NCB ने नार्कोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस एक्ट के तहत गिरफ्तार किया है. ऐसे में जमानत मिलना मुश्किल है और एनसीबी पहले साफ कर चुकी है कि, वह जमानत का विरोध करेंगे.

20 पेज की जमानत अर्जी
रिया चक्रवर्ती के वकील सतीश मानशिंदे ने एक्ट्रेस की जमानत के लिए पूरे 20 पेज की अर्जी लगाई है. जिसमें रिया की तरफ से कहा गया है, ‘वह पूरी तरह निर्दोष है और उसने कोई भी अपराध नहीं किया है. आवेदक को वर्तमान मामले में झूठा फंसाया जा रहा है.’ रिया ने ये भी कहा कि,samuel miranda on rhea partyउसके पास से कोई भी ड्रग या साइकोट्रॉपिक पदार्थ जब्त नहीं हुआ है और कम मात्रा में ड्रग्स से संबंधित मामले पर जमानत मिलने के प्रावधान की बात की गई है. रिया ने अपनी जमानत अर्जी में कहा कि, ये पूरा मामला कम मात्रा में ड्रग्स खरीदने का है इसके अलावा कुछ नहीं. ऐसे में कोई भी बड़ा मामला नहीं बनता.

नहीं थी महिला अधिकारी
रिया चक्रवर्ती की जमानत अर्जी में दावा किया गया कि, उन्हें बयान देने के लिए मजबूर किया गया और वहां कोई भी महिला अधिकारी नहीं थी. जो वर्तमान आवेदक से कानून के मुताबिक पूछताछ कर सके. रिया का दावा है कि, ‘आवेदक को उत्तरदाताओं द्वारा बुलाया गया था औरrhea chakraborty NCBएनसीबी कार्यालय में छह, सात और आठ सितंबर 2020 को पूछताछ की गई थी. आवेदक की पूछताछ के दौरान किसी भी कानूनी सलाह तक कोई पहुंच नहीं थी, जब उससे न्यूनतम आठ घंटे तक पूछताछ की गई थी, जिसमें कई पुरुष अधिकारी थे और कोई भी महिला अधिकारी नहीं थी’

कोरोना का खतरा
20 पन्नों की अर्जी में रिया चक्रवर्ती ने दावा किया कि, वह इस मामले पर सहयोग करती आ रही हैं और अगर उन्हें हिरासत में रखा जाता है. तो उसका जीवन खतरे में पड़ सकता है.rhea-arrest क्योंकि, आवेदक को पिछले कई महीनों के दौरान सैकड़ों मौत और दुष्कर्म की धमकियां मिल रही हैं. रिया ने जमानत अर्जी में कोरोना वायरस का भी हवाला अदालत के समक्ष रखा है. ऐसे में देखना होगा कि, रिया को जमानत मिल जाती है या उनकी मुश्किलें इसी तरह कायम रहती हैं.