मरने से पहले परवीन ने लिया था अमिताभ बच्चन का नाम, जानें महेश भट्ट ने उस रात के बारे में और क्या कहा

71

महेश भट्ट और परवीन बॉबी 70 के दशक के दो ऐसे नाम जिनकी प्रेम-कहानी की चर्चा अभी तक बॉलीवुड गलियारे में होती है. उस वक्त परवीन सबसे महंगी एक्ट्रेसेस में गिनी जाती थीं. अपने फिल्मी करियर में परवीन ने कई हिट और जबरदस्त फिल्में दीं. बॉलीवुड में ग्लैमरस कपड़े का चलन भी परवीन ने ही शुरू किया था. जी हां, वह 70 की दशक की सबसे ज्यादा बोल्ड एक्ट्रेस थीं. फिल्मी करियर जितना बेहतरीन रहा उतनी ही खराब उनकी असल जिंदगी रही. एक्ट्रेस की मौत भी आज तक रहस्य बनी हुई है. उनकी मौत पर कई लोगों का कहना है कि वह पागल हो चुकी थीं जबकि कुछ मानते हैं कि एक्ट्रेस ने खुद ही मौत को गले लगा लिया था. उस वक्त महेश भट्ट उनके काफी करीब थे और इनकी लव-स्टोरी का काफी खतरनाक और दर्दनाक अंत हुआ था.

रियल लाइफ में बिल्कुल अकेली

परवीन बॉबी सिल्वर स्क्रीन पर जितनी हंसमुख लगती थीं. उतनी ही अकेली वह अपनी रियल लाइफ में थीं. परवीन का अफेयर डैनी और कबीर बेदी से भी चला. लेकिन महेश भट्ट के साथ उनका सीरियस लव था और महेश अपनी पत्नी को छोड़ एक्ट्रेस के साथ लिवइन में रहने लगे थे.parveen_babi_mahesh दोनों के प्यार का अंत इतना दुखद होगा इसकी कल्पना किसी ने नहीं की थी. खुद महेश ने एक इंटरव्यू में अपने और परवीन के रिश्ते पर कई ऐसे राज खोले थे जिन्हें जानने के बाद लोग हैरान रह गए थे. महेश ने अपनी परवीन को श्रद्धाजंलि देने के लिए फिल्म भी बनाई थी.

शादीशुदा महेश से प्यार

महेश भट्ट और परवीन के प्यार की शुरुआत 1977 में हुई थी. जब परवीन का करियर काफी अच्छा चल रहा था. दोनों का इश्क इतना गहरा था कि, महेश अपनी पत्नी को छोड़कर परवीन के साथ आकर रहने लगे थे. परवीन भी महेश के लिए एक साधारण लड़की बन गई थी और इस तरह दोनों के रिश्ते को दो साल बीत गए थे.

एक रात ने बदली जिंदगी

दो साल तक साथ रहने के बाद 1979 में जब एक रात महेश घर लौटे तो परवीन को देखते ही उनकी जिंदगी बदल गई. दरअसल, घर में परवीन ने एक फिल्म का कॉस्ट्यूम पहना हुआ था और एक कोने में चाकू लेकर बैठी थी. जैसे ही परवीन ने महेश को देखा तो उन्हें चुप रहने को कहा. फिर बोली- ‘बात मत करो, कमरे में कोई है. वो मुझे मारने की कोशिश कर रहे हैं और फिर अमिताभ बच्चन का नाम लिया.’ Praveen-Amithabhपरवीन के मुंह से ऐसी बातें सुनकर महेश के होश उड़ गए और इस काली रात ने महेश भट्ट की लाइफ में भूचाल ला दिया था. उन्होंने परवीन को डॉक्टर्स को दिखाया तो पता चला उन्हें सिजोफ्रेनिया नाम की मानसिक बीमारी है.

बंद कमरे में रहती थीं परवीन

परवीन की बीमारी की जानकारी मिलने के बाद महेश उन्हें अच्छे से अच्छे डॉक्टर्स के पास लेकर गए. लेकिन बीमारी परवीन के शरीर और दिमाग पर इस तरह हावी हो चुकी थी कि, उन्हें बंद कमरे में रखा जाने लगा. न तो मीडिया के सामने लाया जाता और न ही पब्लिक के सामने. पहले तो परवीन दवाईयां ले भी रही थीं.parveen-mahesh-love-story जैसे-जैसे हालत बिगड़ने लगी उन्होंने दवाई खानी भी बंद कर दी. आखिरी कुछ दिनों में परवीन इतनी अकेली हो गई कि कोई भी उनके पास न आता और जाता. 56 की होने के बाद बेड से उठने में मुश्किल होने लगी थी.

3 दिनों तक सड़ती रही लाश

हैरानी वाली बात ये रही कि, जब परवीन की मौत हुई तो किसी को भी इस बारे में पता नहीं चला. 20 जनवरी 2005 में अकेले रहते हुए उनकी मौत हो गई थी.parveen babi story लेकिन पुलिस और बाकी लोगों को मौत की खबर 3 दिन बाद मिली यानि तीन दिनों तक उनकी लाश कमरे में ही सड़ती रही. वो भी तब जब दरवाजे से ब्रेड-दूध नहीं हटा तो किसी ने पुलिस को जानकारी दी.

सुशांत की परवीन से तुलना
मालूम हो कि, मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में सुशांत की तुलना परवीन बॉबी से कर दी थी. उन्होंने कहा कि, कुछ वक्त पहले सुशांत से मिले तो उन्हें लगने लगा था कि वह परेशान हैं और परवीन की रास्ते पर हैं. मुझे ये तो पता था कि वो किसी डॉक्टर से इलाज करा रहे हैं.Sushant-Singh-Rajput-parveen-mahesh लेकिन मैं इतना करीबी नहीं था. मुझे सिर्फ उनकी चिंता थी क्योंकि, वह काफी खोए-खोए से लगे रहे थे. मुकेश के इस बयान पर सोशल मीडिया पर उन्हें जमकर ट्रोल किया गया था. लोगों ने खूब खरी-खोटी सुनाई थी.

ये भी पढ़ेंः- करोड़ों की संपत्ति के मालिक हैं महेश भट्ट, 26 की उम्र में बनाई थी पहली फिल्म