Homeमनोरंजनओल्ड मिस बनाम गोल्ड मिस : सिंगल औरतें, बुरी औरतें होती हैं...

ओल्ड मिस बनाम गोल्ड मिस : सिंगल औरतें, बुरी औरतें होती हैं…

- Advertisement -

दिल्ली। महिलाओं को ‘सही उम्र‘ में शादी के बंधन परिणय सूत्र में नहीं बंध जाने पर एक ही नजर से देखा जाता है। देष कोई भी हो समाज का नजरिया ऐक जैसा ही होता है। अभिनेत्री संध्या मृदुल ने जीवन और उसके साथ होने रिश्तों के बदलाव पर सटीक टिप्पणी किया है। ‘सिंगल औरतें, बुरी औरतें होती हैं‘ ऐसा नहीं होता है। उन्होंने कहा कि ज्यादातर लोग शादी नहीं करने वाली सिंगल विमिन को लेकर इसी तरह की सोच रखते हैं। क्योंकि उनका मनना होता है कि ऐसी महिलाएं हमेशा कुछ गलत ही करती हैं। ये अट्रैक्टिव होती हैं इसलिए इनके कई पार्टनर होते हैं और ये जिसके साथ चाहे उसके साथ संबंध बना लेती हैं। उन्होंने कहा कि समारोह, मांगलिक कार्यक्रमों में लोग कई समूह कपल्स, सिंगल्स, फ्रेंड्स, डेस्परेट लोग और दुश्मन आदि शामिल हैं। उस दौरान उन्हें तय करना होता है कि आखिर वह किस ग्रुप में फिट होती हैं। जैसे इसका तो यंग बॉयफ्रेंड है ये तो कितनी फिट है आखिर ये कैसे कर लेती है? ये तो गुस्सैल है, हमेशा डेस्परेट रहती है आदि।

sandhya mridul 2

यह भी पढ़ेंःजब दो सगी नाबालिग बहने पहुंची थाने, एक ही प्रेमी से शादी कराने की जिद

उन्होंने बताया कि शादीशुदा और सिंगल महिलाओं के लिए अलग-अलग सोच रखी जाती है। प्रत्येक पुरूष का नजरिया बहुत ही पेचीदा होता है। उन्होंने बताया कि उन्हें कहा जाता है कि वह मर्दों को लेकर बहुत गलतियां करती हैं। वह ज्यादा पुरुषों को अट्रैक्ट करती हैं, जिस वजह से उन्हें सही साथी नहीं मिल पाता। उन्होंने कहा कि उन्हें गलत मर्द को लेकर सलाह देने वालीं, खुद गलत शख्स से शादी करके बैठी हैं।

sandhya mridul 1

सिंगल रहने वाली महिलाओं की जिंदगी से जुड़ी चीजों को लोग गाशिप बनाते हैं। उनकी नजरों में अकेली रहने वाली महिला की जिंदगी से जुड़ी चीजें राज नहीं होतीं बल्कि पब्लिक में बताने वाली होती हैं। आज के दौर में भी कोई लड़की भले ही अपने पैरों पर खड़ी हो और अच्छा जीवन जी रही है। उसका कॅरिअर को लेकर सपना हो लेकिन उस पर शादी के लिए दबाव डाला जाता है। मौका मिलने पर गॉशिप करने से भी बाज नहीं आते। दुनियाभर में महिलाओं के बीच सिंगल रहने की चाह बढ़ने लगी है।

sandhya mridul 1

जनवरी 2021 में सामने आए एक डेटा के मुताबिक, लगभग हर उम्र ग्रुप में इसे बढ़ते हुए देखा जा रहा है। अकेली रहने वाली महिलाओं को लेकर सोच में भी बदलाव देखा जा रहा है। उदाहरण के लिए साउथ कोरिया में जहां पहले शादी की उम्र पार कर चुकी महिला को ‘ओल्ड मिस‘ कहा जाता था, वहीं अब उन्हें सफल व इंडिपेंडेंट होता देख ‘गोल्ड मिस‘ कहा जाने लगा है।

यह भी पढ़ेंः-शादी करने के झूठे वादे पर बने रिलेशन को कोर्ट ने कहा कि रेप के कानून में स्पष्टता जरूरी

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here