SSR सुसाइड मामले पर नीतीश कुमार का बयान, कहा- एक्टर के साथ हुआ अन्याय, CBI को सौंपा जाए केस

67
SSR case on nitish kumar

एक्टर सुशांत सिंह (Sushant Singh Rajput) के मौत को डेढ महीने से ज्यादा हो गया है. लेकिन ये मामला अभी तक नहीं सुलझ पाया है. ऊपर से दो राज्यों की पुलिस के बीच आपसी मतभेद जारी है. देशभर में लगातार सुशांत सिंह के सुसाइड केस (Suicide case) में सीबीआई जांच की मांग उठती रही है. जिसे ध्यान में रखते हुए अब बिहार सरकार (Bihar Government) ने भी केस की जांच सीबीआई (CBI) को देने की अपील की है. इस फैसले की जानकारी देने के बाद बिहार के सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने एक निजी चैनल के संपादक से बात करते हुए कहा कि सुशांत सिंह का निधन जिस तरह से हुआ है उससे हर कोई शोक में है. पूरे देशभर में लोग अपनी चिंताएं जाहिर कर रहे हैं. क्योंकि ये सही बात है कि उसके साथ अन्याय हुआ है. जिसके बारे में पूरा देश जानता है. यही वजह है कि सुशांत के पिता ने सुसाइड को लेकर पटना में एफआईआर भी दर्ज कराई थी. इसी के बाद ही बिहार पुलिस (Bihar Police) को मामले की जांच के लिए मुंबई भेजा गया था. लेकिन जांच-पड़ताल के दौरान जिस तरीके से बिहार के पुलिस के अधिकारियों के साथ महाराष्ट्र में बर्ताव किया गया वो बहुत ही गलत है.

ये भी पढ़ें:- सुशांत सिंह मामले की जांच..महाराष्ट्र सरकार के इस कदम पर भड़के नीतीश कुमार, गुस्से में कही ये बात

नीतीश कुमार ने अपने बयान में बताया कि इस मामले को लेकर उन्होंने पहले भी ये कहा था कि यदि सुशांत के पिता बेटे के केस में सीबीआई जांच (CBI Inquiry) की मांग करेंगे तो इसकी सिफारिश आगे की जाएगी. आखिरकार आज उनकी सहमति के बाद सरकार ने ये अपील कर दी है. इसके साथ ही उन्होंने आगे बताया कि इस मामले में आज सुबह ही सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के पिता से बिहार के डीजीपी ने बातचीत की है. जिसके बाद ही केके सिंह ने इसमें सीबीआई जांच कराने की मांग की है. जिसकी जानकारी डीजीपी ने मुझे दी, और फिर सीबीआई जांच की सिफारिश की गई. आगे बात करते हुए सीएम ने कहा कि, ‘सुशांत के पिता की ओर से FIR दर्ज कराई गई थी, जिसके तहत बिहार पुलिस छानबीन कर रही थी. लेकिन इसके बाद चारों तरफ से ये मांग उठ रही है कि इस मामले में सीबीआई जांच होनी चाहिए. हालांकि हमने शुरूआती बयान में भी ये बात कही थी कि यदि एक्टर के पिता इस बात पर मंजूदी देंगे तो सीबीआई जांच कराएंगे. आखिर में आज उनकी ओर से समर्थन दे दिया गया है, जिसके बाद सिफारिश की गई है. आज ही इस प्रस्ताव को आगे के लिए भेज दिया जाएगा.’

इसके आगे मुंबई पुलिस (Mumbai Police) और बिहार पुलिस (Bihar Police) के बीच जारी तनातनी के साथ ही IPS अफसर को क्वारंटाइन किए जाने वाले सवाल पर जवाब देते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि, ‘इस मामले को लेकर पटना में FIR दर्ज कराई गई थी, इसी कारण बिहार की पुलिस मुंबई में जाकर जांच कर रही है. क्योंकि ये यहां कि पुलिस की कानूनी जिम्मेदारी बनती है. इसलिए मुंबई में बिहार पुलिस के अधिकारी के साथ इस तरह का गलत व्यवहार किया जाना, कहीं से भी सही नहीं है. ये कानूनी प्रक्रिया है. जिसके तहत वो जांच के लिए गए थे, और इसकी जानकारी पुलिस ने यहां भी दी थी. इसके बावजूद उन्हें क्वारंटाइन करके जांच से पहले ही उन पर ब्रेक लगा दिया. जो कि बिल्कुल भी सही नहीं है. ऐसी जगहों पर तो पुलिस की ओर से बिहार पुलिस को समर्थन मिलना चाहिए था. उन्होंने कहा कि अब ये लोगों के बीच आम धारणा बन गई है कि एक्टर के साथ गलत हुआ है. ये भी एक कारण है कि पूरे देश को ये लगता है कि सुशांत के मामले को CBI के हवाले कर देना चाहिए.’

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने महाराष्ट्र में बिहार पुलिस (Bihar Police) के अधिकारियों के साथ हुए गलत बर्ताव पर दुख जाहिर किया. उन्होंने बात करते हुए कहा, ‘एक्टर के केस में बिहार पुलिस से जो बन पड़ रहा है वो कर रही है. अपने तरीके से पुलिस की टीम मुस्तैदी से जांच करने में लगी हुई है. यहां के अधिकारी लगातार वहां के अधिकारियों से संपर्क साधने की कोशिश कर रहे थे लेकिन वहां के लोग इस पर किसी तरह की बात ही करने को नहीं तैयार हैं. सीएम ने कहा कि ये सारी बातें मुझे डीजीपी (Bihar DGP) के हवाले से पता चली हैं. ये हालात बिल्कुल भी सही नहीं है.’ इस मामले पर जब महाराष्ट्र के सीएम से होने वाली बातचीत को लेकर सवाल पूछा गया तो सीएम नीतीश ने जवाब देते हुए कहा कि, ‘सीएम के स्तर पर सुशांत के केस में किसी तरह की बात नहीं हो सकती है. क्योंकि ये कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं बल्कि कानूनी मामला है. ये केवल पुलिस का काम है जिसे बिहार पुलिस पूरी जिम्मेदारी के साथ कर रही थी. उन्होंने कहा कि सोचिए डीजीपी वहां के अधिकारियों को फोन करें लेकिन कोई फोन ही न उठाए, ये हैरानी वाली बात है. ऐसे में अच्छा ये होगा कि ये केस सीबीआई को सौंप दिया जाए.’ आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सुशांत सुसाइड मामले में बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में फिर से सुनवाई होगी.

ये भी पढ़ें:-बिहार DGP का मुंबई पुलिस पर आरोप, कहा- क्वारंटीन के नाम पर IPS अधिकारी को किया गया ‘अरेस्ट’