HBD Manoj Bajpayee : जीवन में आत्यहत्या करने तक का सोच लिए थे मनोज बाजपेयी, कुछ इस तरह बदला इरादा न

आज Manoj Bajpayee अपना 53वां जन्मदिन मना रहे हैं। एक्टिंग की दुनिया में उनको 28 साल हो चुके हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह समय ऐसा भी आया था जब वह आत्महत्या करने के बारे में सोचने लगे थे।

0
214

मनोज बाजपेयी (Manoj Bajpayee) ने ‘सत्या’, ‘शूल’, ‘तेवर’, ‘अलीगढ़’ और ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ जैसी दमदार फिल्मों से ये बात तो साबित कर दी है कि एक्टिंग में उनसे कोई मुकाबला नहीं कर सकता है। आज वह अपना 53वां जन्मदिन मना रहे हैं। एक्टिंग की दुनिया में उनको 28 साल हो चुके हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह समय ऐसा भी आया था जब वह आत्महत्या करने के बारे में सोचने लगे थे। आइए जानते हैं उनके जीवन का वह कठिन दौर।

झेले कई सारे रिजेक्शन

बिहार में जन्मे मनोज बाजपेई 9 साल की उम्र में ही एक्टर बनना चाहते थे और इसका फैसला भी वो ले लिया था पर Manoj Bajpayee मनोज के हालात उनके साथ नहीं थे। पर इन सब की बिना परवाह किए ही केवल 17 साल की उम्र में थिएटर में एक्टिंग सीखने के लिए मनोज चल दिए।

लोग मारते थे ताने

मनोज ने अपने पिता को एक लेटर लिखा और थिएटर से लोगों का दिल जीता, जिसके बाद उनके पिता ने उनको ₹200Manoj Bajpayee दिए इस दौरान एक्टर को कई लोगों ने ताने मारे लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और थिएटर में मन लगाकर एक्टिंग करने लगे।

अपने शुरुआती करियर में उनके साथ बहुत सारी दिक्कतें आई। एक इंटरव्यू में उन्होंने खुलासा किया कि उन्हें इतनेManoj Bajpayee रिजेक्शन मिल रहे थे और आर्थिक हालत इतनी खराब हो चुकी थी कि उनको वड़ा पाव भी काफी महंगा लगने लगा था यह दौर ऐसा था जब उनको ख्याल आने लगा था कि वह आत्महत्या कर लें।

दोस्त बने सहारा

मनोज बाजपेई ने इंटरव्यू में बताया कि ऐसे हालात में उनके दोस्तों को अंदाजा हो गया था इसीलिए कोई भी दोस्त उनकोManoj Bajpayee अकेला नहीं छोड़ता था। मनोज बाजपाई के दोस्तों ने उन्हें तब तक अकेला नहीं छोड़ा जब तक बॉलीवुड में उन्होंने अपनी धाक नहीं जमा ली।

Read More-दिव्या भारती के मरने के 6 साल बाद तक साजिद नाडियावाला की दूसरी पत्नी को आते थे उनके सपने, वजह आई सामने