madhuri-vinod-lip-kiss

विनोद खन्ना (vinod khanna) हिंदी सिनेमा के ऐसे एक्टर हैं जिन्होंने अपने करियर की शुरुआत भले ही विलेन के किरदार से की हो मगर बाद में वह सुपस्टार बन गए. एक ऐसे स्टार जिसकी फिल्म टीवी या थियेटर पर आते ही लोग जमकर तालियां बजाने लगते. घर-घर विनोद खन्ना अपनी दमदार एक्टिंग से अपनी पहचान चुके थे. इनका जन्म 6 अक्टूबर 1946 में पाकिस्तान के पेशावर में हुआ था और आज ही के दिन कैंसर की वजह से साल 2017 में इनका निधन हो गया. पर विनोद खन्ना की यादें आज भी फैंस के दिलों में ताजा हैं.

जब पिता ने तान दी थी बंदूक
विनोद खन्ना एक सामान्य परिवार से ताल्लुक रखते थे. जिसका फिल्म इंडस्ट्री से दूर-दूर तक नाता नहीं था. जब विनोद को सुनील दत्त से ऑफर मिला और उन्होंने अपने पिताजी से को इस बारे में बताया. तो उनके पिता ने गुस्से में विनोद के ऊपर पिस्तौल तान दी थी और चेतावनी देते हुए कहा था कि, अगर तुम फिल्मों में गए तो मैं गोली तुम्हें गोली मार दूंगा. पर एक्टर के सिर पर एक्टिंग का जुनून सवार था और इसी जुनून ने उन्हें सुपस्टार बना दिया. दरअसल, विनोद के पिता उन्हें एक बड़ा बिजनेसमैन बनाना चाहते थे.

150 से ज्यादा फिल्में और सेक्सी संन्यासी
विनोद खन्ना ने हिंदी सिनेमा जगत को 150 से ज्यादा फिल्में दी. जिनमें से कुछ तो सुपरहिट हुई तो किसी फिल्म की वजह से वह विवादों से घिर गए. विनोद ने साल 1968 में ‘मन का मीत’ से अपने करियर की शुरुआत की थी. जिसमें उन्होंने विलेन का रोल किया. इस फिल्म के बाद तो विनोद के आगे फिल्मों की लाइन लग गई.vinod khanna sanyasi पर एक ऐसा टाइम आया जब विनोद खन्ना ने करियर के पीक पर आकर रिटायरमेंट ले लिया और अमेरिका के ओरेगोन स्थित रजनीशपुरम आश्रम चले गए. आश्रम में विनोद रजनीश की माला पहनते थे इस वजह से उन्हें सेक्सी संन्यासी कहा जाने लगा.

खो चुके थे मानसिक संतुलन
विनोद खन्ना का जीवन काफी उतार-चढ़ावों से भरा रहा. एक समय में उनका अमृता सिंह से भी अफेयर था पर बाद में उन्होंने गीतांजलि से शादी की. पर 1985 में गीतांजलि से तलाक होने के बाद विनोद को डिप्रेशन ने घेर लिया जिस वजह से वह अपना मानसिक संतुलन खो बैठे थे.vinod-khanna ऐसे समय में जब उन्हें फिर से फिल्मों में काम मिलने लगा तो 1990 में उन्होंने कविता दफ्तरी से दूसरी शादी की. जिससे उन्हें एक बेटा साक्षी और बेटी श्रद्धा है. विनोद ने सिर्फ फिल्मों में ही नहीं बल्कि राजनीति में भी अपना जादू चलाया. उन्होंने बीजेपी पार्टी ज्वाइन की और कई चुनावों में जीत का परचम लहराया.

जब माधुरी के काट लिए थे होंठ
साल 1988 में आई फिल्म ‘दयावान’ (dayavan) में विनोद खन्ना ने अपनी से 20 साल छोटी माधुरी दीक्षित (madhuri dixit) के साथ काम किया था. फिल्म रिलीज के बाद दोनों की खूब आलोचना हुई. जिसका कारण था इंटीमेन सीन. कहा जाता है कि,vinod-madhuri dayawan इस फिल्म के लिए जब इंटीमेट सीन शूट किया जा रहा था तो विनोद खन्ना बेकाबू हो गए थे और माधुरी के होंठ काट लिए थे. जिस पर काफी बवाल मचा था. अपनी इस हरकत के लिए विनोद ने माधुरी से मांफी भी मांगी थी.

ये भी पढ़ेंः- माधुरी दीक्षित को Kiss करते हुए बेकाबू हो गए थे विनोद, काट दिए थे होँठ