Categories
मनोरंजन

अब राम मंदिर पर कंगना रनौत बनाएंगी फिल्म, जानें कब शुरू होगी शूटिंग और क्या होगा फिल्म का नाम

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (kangana ranaut) अक्सर सुर्खियों में बनी रहती हैँ। वैसे तो कंगना की लगभग सभी फिल्में हिट होती हैं और कंगना भी अपनी फिल्मों के लिए कड़ी मेहनत करती हैं। उनकी एक्टिंग भी काफी दमदार होती है। क्वीन मूवी में कंगना की एक्टिंग ने फैंस का खूब दिल जीता था। इस मूवी में कंगना ने जिस तरह अपनी एक्टिंग से धमाल मचाया था अब उसी तरह कंगना अब खुद एक फिल्म बनाने जा रही हैं। जी हां, कंगना ने मणिकर्णिका फिल्म से डायरेक्शन में डेब्यू किया था और अब वह प्रोडक्शन में भी डेब्यू करने जा रही हैं। मणिकर्णिका के नाम से कंगना ने अपना प्रोडक्शन हाउस (manikarnika production house) खोला है। और अब वह अपने करियर की पहली फिल्म प्रोड्यूस करने जा रही हैं। खास बात ये है कि, कंगना की ये पहली फिल्म राम मंदिर केस पर बेस्ड होगी।

अपराजित अयोध्या
खबरों की मानें तो, कंगना की इस फिल्म का नाम होगा ‘अपराजित अयोध्या’। इस फिल्म की शूटिंग अगले साल यानि 2020 में शुरू होगी। इस फिल्म की स्क्रिप्ट को केवी विजेंद्र प्रसाद ने लिखा है। बता दें, फिल्म बाहुबली सीरिज के क्रिएटर भी केवी विजेंद्र प्रसाद हैं।

अपराजित अयोध्या के बारे में बात करते हुए कंगना रनौत बताती हैं कि, सालों से राम मंदिर का केस चल रहा है। जो काफी चर्चाओं में रहा है। वह बताती हैं कि, 80 के दशक में पैदा हुए बच्चे के रूप में मैं अयोध्या का नाम निगेटिव लाइट से सुनकर बड़ी हुई हूं। इस केस ने भारत की राजनीति का स्वरूप बदला है। तो वहीं हाल ही में इस केस में आए ऐतिहासिक फैसले ने सालों पुराने एक बड़े विवाद को खत्म कर दिया। कंगना कहती हैं कि, ये मुद्दा कहीं न कहीं मेरी अपनी जिंदगी की जर्नी को दिखाता है। पर इस फिल्म की खास बात ये है कि, ये फिल्म एक हीरो के नास्तिक से आस्तिक होने की यात्रा है। इसी कारण मेरे प्रोडक्शन हाउस के लिए ये सबसे अच्छा विषय होगा।

आपको बता दें, 9 नवंबर 2019 भारत के इतिहास की वो तारीख बन चुकी है जिस दिन सुप्रीम कोर्ट ने सालों से चले आ रहे मामले पर अपना फैसला सुनाया। फैसले में कोर्ट ने ASI का हवाला देते हुए कहा कि, बाबरी मस्जिद किसी खाली स्थान पर नहीं बनाई गई थी। साथ ही कहा कि, विवादित जमीन के नीचे एक ढांचा था जो इस्लामिक नहीं था। इसलिए विवादित जमीन को रामलला को सौंपी जाती है। साथ ही मुस्लिमों को 5 एकड़ जमीन अयोध्या में ही दी जाती है। जिस पर मुस्लिम अपनी मस्जिद का निर्माण कर सकते हैं।

ये भी पढ़ेंः- अभी भी राम मंदिर निर्माण में लग सकते है 10 साल, जानें क्या है वजह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *