anand patwardhan

देश की सर्वोच्च अदालत ने सालों पुराने अयोध्या मामले के केस पर शनिवार को अपना आखिरी फैसला सुनाकर करोड़ों भारतीयों के लंबे इतंजार को खत्म किया। इस केस में कोर्ट ने राम मंदिर के पक्ष में अपना फैसला सुनाया, जिससे राम मंदिर निर्माण का पूरा रास्ता साफ हो गया। हालांकि, कोर्ट ने ये भी कहा कि, मुस्लिमों को अयोध्या में ही मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ जमीन दी जाएगी। लेकिन, विवादित जमीन पर राम मंदिर का निर्माण होगा। इस फैसले पर देशभर की कई हस्तियों ने अपनी राय दी। बॉलीवुड खेमे की बात करें तो हिंदू क्या मुस्लिम क्या सभी अभिनेताओं और अभिनेत्रियों ने इस फैसले का दिल से स्वागत किया है। इसी बीत निर्देशक आनंद पटवर्धन (Anand patwardhan) ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले पर नाराजगी जाहिर की है।

आपको बता दें, साल 1992 में जब बाबरी मस्जिद को ढहाया गया था, उस घटना से करीब 3 महीने पहले आनंद पटवर्धन ने ‘राम के नाम’ से एक डॉक्यूमेंट्री (Documentary ram ke naam) बनाई थी। डॉक्यूमेंट्री में बाबरी मस्जिद के स्थल पर राम मंदिर बनाने के लिए छेड़ी गई मुहिम और इससे भड़की हिंसा को साफतौर पर दिखाया गया है। वहीं मामले पर आनंद पटवर्धन ने न्यूज एजेंसी से बात करते हुए कहा है कि, बाबरी मस्जिद एक घोषित राष्ट्रीय स्मारक था। जो सिर्फ देश के मुसलमानों के लिए नहीं बल्कि हर भारतीय के लिए था। आनंद पटवर्धन का ये भी कहना है कि, जिन नेताओं ने बाबरी मस्जिद को तोड़ा आज तक वह नेता जेल नहीं गए बल्कि उन्हें कई बार सम्मानित किया गया। वह बोले अगर भारत को धर्मनिरपेक्ष बनाने की बात है तो ये तभी हो सकता है जब स्वतंत्रता के मूल्यों को फिर से अपनाया जाएगा। बता दें, निर्देशक आनंद पटवर्धन की बनाई हुई डॉक्यूमेंट्री राम मंदिर निर्माण के लिए विश्व हिंदू परिषद द्वारा चलाए गए आंदोलन पर आधारित है। ये भी पढ़ेंः- भगवान राम के वनवास के साथ खत्म हुआ 27 सालों का इंतजार, अयोध्या जाकर उर्मिला तोड़ेंगी अपना व्रत