Categories
मनोरंजन

JNU में जाने के बाद दीपिका का बड़ा बयान, CAA-NRC पर बोलीं- हमारे देश की नींव ऐसी नहीं रखी गई थी

इन दिनों जिस तरह से देश में लगातार सीएए, एनआरसी का विरोध प्रदर्शन अपने चरम पर है, तो वहीं हाल ही में जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में जिस तरह कुछ नकाबपोशों ने घुसकर अध्यापकों और छात्रों की पिटाई की, उससे पूरा देश उबल रहा है, देशभर के छात्र अब सड़कों पर उतरकर सरकार के खिलाफ नारे लगा रहे हैं. आजादी की मांग कर रहे हैं. तो वहीं इस मुद्दे से अब बॉलीवुड भी अछूता नहीं रहा है. हर दिन सड़कों पर छात्रों के समर्थन में बॉलीवुड स्टार्स उतरकर नारे लगा रहे हैं. ऐसे में हाल ही में जेएनयू के समर्थन में दीपिका भी पहुंची और छात्रों के साथ खड़ी दिखाई दीं.

हालांकि इस प्रदर्शन में दीपिका ने कोई नारेबाजी तो नहीं की, लेकिन हां वो वहां पर छात्रों के साथ खड़ी जरूर दिखाई दीं, जहां पर कन्हैया कुमार लगातार नारेबाजी कर रहे थे. दीपिका के इस कदम पर अब सोशल मीडिया में उनकी आने वाली फिल्म छपाक का बहिष्कार किया जा रहा है. लोग उनकी फिल्म को न देखने की बात कर रहे हैं. प्रदर्शन के दौरान दीपिका से जब एक चैनल ने सवाल किया कि जिस तरह से यूनिवर्सिटी के छात्र CAA-NRC कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं उस पर वो अपनी क्या राय देना चाहती हैं. दिपिका ने इस सवाल का जवाब देते हुए बोलीं, कि मेरे सोचने के हिसाब से जो मुझे अभी कहना चाहिए वो मैनें दो साल पहले ही कहा था, जिस समय पद्मावत रिलीज होने वाली थी.

इसके आगे दीपिका ने कहा कि पद्मावत रिलीज होने के समय जो मैंने फील किया उस पर मैनें अपनी राय रखी थी. इसके आगे दीपिका ने ये भी कहा कि ‘मैं इस समय जो कुछ भी देख रही हूं, उससे मुझे तकलीफ होती है…क्योंकि ये सब साधारण सी बात नहीं है. क्योंकि कभी भी कोई कुछ भी कह सकता है, अब तो डर जैसा माहौल हो गया है. हमारे देश की जो नींव रखी गई थी, वो तो नहीं थी. ‘

आपको बता दें कि इन दिनों दीपिका फिल्म छपाक के प्रमोशन में लगी हुई हैं, और वो लगातार एसिड सर्वाइवर के बारे में बात करती हुई दिखाई दे रही हैं. उन्होंने एसिड सर्वाइवर के बारे में बात करते हुए कहा कि ये सब बर्दाश्त करना बड़ा मुश्किल होता है. फिलहाल महिलाओं के लिए फिल्म इंडस्ट्री में जो चीजें हो रही हैं, वो बेहद खास हैं. आगे दीपिका कहती हैं कि लक्ष्मी की स्टोरी उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा देती है. उन्होंने कहा कि ये कहानी वाकई दिल को छू देने वाली है, और इस कहानी को हम लोगों के बीच में इसलिए लेकर आए हैं क्योंकि ये एक निडर लड़की की कहानी है. फिलहाल दीपिका की ये फिल्म क्या रिकॉर्ड हासिल करने वाली है खैर ये तो बॉक्स ऑफिस पर रिलीज होने के बाद पता चलेगा. लेकिन ये तो तय है कि दीपिका जेएनयू में जाकर एक सिरदर्दी मोल ले चुकी हैं.

ये भी पढ़ें:- JNU विरोध में फ्री कश्मीर वाले पोस्टर पर भड़के अनुपम खेर, देवेंद्र फडणवीस बोले- नहीं करेंगे बर्दाश्त

Leave a Reply

Your email address will not be published.