तस्लीमा नसरीन की पोस्ट पर भिड़ीं एआर रहमान की बेटी, लिखा- मेरा दम घुटता है

धर्म, जाति और संस्कृति को लेकर हमेशा से ही सवाल उठते रहे हैं. कभी कई ट्वीट बुर्खे पर ट्वीट करके सुर्खियों में आ जाता है, तो कभी कोई भगवा पर बयान देकर चर्चाओं का विषय बन जाता है. हाल ही में ऐसा ही कुछ फिर सोशल मीडिया पर देखने को मिला. दरअसल खातिजा ने तस्लीमा नसरीन के एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा देश में बहुत कुछ हो रहा है. यहां पर तो महिला के पहनावे को लेकर लोग कुछ ज्यादा ही चिंतित हैं.

बता दें कि तस्लीमा नसरीन किसी के पहचान की मोहताज नहीं है. वो बहुत बड़ी लेखिका के रूप में लोगों के बीच फेमस हैं. हाल ही में उन्होंने सिंगर एआर रहमान की बेटी खातिजा की बुर्के की एक फोटो शेयर करते हुए ट्वीट में लिखा कि, मुझे ए आर रहमान का संगीत बहुत पसंद है. लेकिन जब भी मैं उनकी प्यारी बेटी को देखती हूं, मुझे घुटन महसूस होती है. यह वास्तव में निराशाजनक है कि एक सांस्कृतिक परिवार में शिक्षित महिलाएं भी बहुत आसानी से ब्रेनवॉश हो सकती हैं. तलसीमा के ट्वीट को अब तक 1800 से बार रिट्वीट किया गया है, जबकि हजारों में इसे लाइक मिल चुके हैं.

हालांकि तस्लीमा के इस ट्वीट के बाद खातिजा ने भी जावाब में एक पोस्ट किया. ये पोस्ट उन्होंने तस्लीमा के स्क्रीनशॉट को अपने ऑफिशियल इंस्टाग्राम अकाउंट से शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा कि, यहां देश में काफी कुछ हो रहा है और लोग महिला के पहनावे के एक कपड़े से चिंतित हैं, जो वह पहनना चाहती है. इतना ही नहीं आगे खातिजा ने ये भी लिखा कि, प्रिय तस्लीमा नसरीन, मुझे खेद है कि आपको मेरे पहनावे से घुटन महसूस होती है. कृपया कुछ ताजी हवा प्राप्त करें, क्योंकि मैं जो कुछ भी करती हूं, उसके लिए मुझे गर्व है. मैं आपको सुझाव देती हूं कि वास्तविक नारीवाद का अर्थ जानने के लिए गूगल करें क्योंकि यह न तो अन्य महिलाओं को परेशान करता है और न ही उनके पिता को इस मुद्दे पर लाता है.

https://www.instagram.com/p/B8jzyv4lKTT/?utm_source=ig_web_copy_link

आपको बता दें कि दोनों के बीच ये पोस्ट और ट्वीट का वॉर जारी है. क्योंकि खातिजा ने अपने पोस्ट के बाद कई कहानियां भी शेयर की. जिसके बाद नसरीन ने अपने ट्विटर पर और भी कई ट्वीट किए जिसमें उन्होंने खातिजा का जिक्र तो नहीं किया लेकिन बुर्के पर बैन लगाने की जरूर मांग की. नसरीन ने एक ट्वीट करते हुए लिखा कि, धर्म से मुक्ति के बिना धर्म की कोई स्वतंत्रता नहीं हो सकती. तो वहीं इसके बाद एक और ट्वीट में तसलीमा ने लिखा, बुर्कावालियां सशक्त हैं. युद्ध शांति है. स्वतंत्रता गुलामी है. अनभिज्ञता ही शक्ति है.

ये भी पढ़ें:- मोदी के सपोर्ट में उतरा बॉलीवुड जगत, ‘साथ मिलकर इस ‘प्रेमकथा’ को करवाएंगे हिट’

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,092,278FansLike
5,000FollowersFollow
5,023SubscribersSubscribe

Latest Articles