आज से बदल जाएंगे ये 10 नियम, रोजमर्रा की जिंदगी पर सीधा पड़ेगा असर

0
933
Loading...

देश में 1 अक्टूबर से कई बड़े बदलाव हुए है। इन बदलावों में कई नए नियम लागू होंगे। जिसका सीधा असर आपकी जेब पर होगा। दरअसल एक अक्टूबर में कई ऐसे फाइनेंसियल बदलाव हुए है। जिसके चलते बैंकिंग, ट्रांसपोर्ट और जीएसटी जैसे नियमों में सरकार ने बदलाव किया है। जिसके चलते अब आपको कुछ चीजे सस्ती मिलेगी। लेकिन कुछ चीजों पर आपको ज्यादा पैसे देने पड़ सकते है। तो आइए आपको बतातें है कि 1 अक्टूबर 2019 से कौन से नए नियम लागू हुए है? जिससे आपकी दुनिया बदल जाएगी।

(1) ATM से कैश निकालने में बदलाव: 1 अक्टूबर ने एसबीआई ने अपने एटीएम के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है। जिसे ग्राहक काफी खुश होंगे। दरअलव अब एसबीआई के मेट्रो शहरों के ग्राहक एसबीआई एटीएम में 10 बार फ्री में डेबिट ट्रांजेक्शन कर सकते है। हालांकि पहले ये लिमिटेशन 6 बार थी। वही बाकि जगहों पर ये लिमिट 12 ट्रांजेक्शन की है।

(2) होटल किराय में राहत: हाल ही में हुई GST काउंसिल में लोगों को कई राहत दी गई है। बैठक में होटल किराय में बड़ी राहत दी है। अब लोगों को होटल के 1000 रुपये के लिए टैक्स नहीं देना होगा। वही अगर होटल का किराया 1001 रुपये से 7500 रुपये तक है तो सिर्फ जीएसटी 12 फीसदी दर से देना होगा। इसके अलावा 7500 रुपये और इससे ज्यादा किराये वाले कमरों की जीएसटी को हटा कर 18 फीसदी कर दिया है। जो पहले 28 फीसदी हुआ करती थी।

(3) मंथली एवरेज बैलेंस में राहत: एसबीआई ने ग्राहकों को मंथली बैलेंस में राहत दी है। दरअसल अब तक ग्राहको के लिए मंथली मिनिमम बैलेंस 5000 रुपये था लेकिन अब इसे घटाकर 3,000 रुपये कर दिया है। लेकिन जो इस मंथली बैलेंस को मेंटेन नहीं कर पाएगा। उसके चार्ज में कटौती की जाएगी। यह कटौती लगभग 80 फीसदी तक की हो सकती है।

(4) पेट्रोल-डीजल खरीदने पर नहीं मिलेगा कैशबैक: एसबीआई कार्ड से पेट्रोल- डीजल खरीदने वालों को अब भारी नुकसान हो सकता है। 1 अक्टूबर से SBI क्रेडिट कार्ड से पेट्रोल-डीज़ल खरीदने पर अब आपको 0.75 फीसदी कैशबैक नहीं मिलेगा। जिसकी जानकारी बैंक ने अपने ग्राहकों को मैसेज के जरीए दे दी है।

(5) ड्राइविंग लाइसेंस में बदलाव: ट्रैफिक नियमों के बीच सरकार ड्राइविंग नियमों को में बदलाव का ऐलान किया है। जिसकी शुरुआत 1 अक्टूबर से हो जाएगी। नए नियमों के चलते अब सभी लोगों को अपना ड्राइविंग लाइसेंस अपडेट करवाना होगा। जिसमें आपका ड्राइविंग लाइसेंस होगा और गाड़ी का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट होगा। अब ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी दोनों का रूप-रंग बदल जाएगा।

(6) कॉरपोरेट टैक्स में कटौती: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कॉरपोरेट टैक्स में कटौती का ऐलान किया गया है। सरकार ने कॉरपोरेट टैक्स को 30 फीसदी से घटाकर 22 फीसदी कर दिया था। हालांकि इस ऐलान से पहले तमाम भारतीय कंपनियों को 30 फीसदी टैक्स देना पड़ता था। वही इसके साथ ही सरचार्ज भी कंपनियों को चुकाना पड़ता था। इसके अलावा विदेशी कंपनियों का यही टैक्स 40 फीसदी देना पड़ता था। लेकिन अब 1 अक्टूबर से मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के पास 15 फीसदी टैक्स भरने का विकल्प होगा।

(7) पेंशन नियमों में बदलेंगे: सरकार ने केंद्रयी सशस्त्र पुलिस बल की पेंशन नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है। जिसके सीधा फायदा केंद्रीय कर्मी के परिवार को मिलेगा। दरअसल अब तक नियमों के मुताबिक, उन केंद्रीय कर्मियों को अंतिम वेतन के 50 फीसदी के बराबर पेंशन देते थे। जो लगातार सात साल तक सेवा में रहता था। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। अगर कोई लगातार सात साल तक सेवा में नहीं रह पाता। तो भी उसेक परिवार को पेंशन का लाभ जाएगा।

(8) कई चीजों पर बढ़ा जीएसटी: सरकार ने कई चीजों पर जीएसटी की दर को बढ़ा दिया है। रेल गाड़ी के सवारी डिब्बे और वैगन पर अब 12 फीसदी जीएसटी देना होगा। जो अब तक 5 फीसदी था। इसके अलावा पेय पदार्थों पर जीएसटी 28 फीसदी देना होगा। जो पहले 18 फीसदी थी।

(9) प्लास्टिक बैन: 2 अक्टूबर से देश में सरकार ने प्लास्टिक को बैन कर दिया है। जिसके चलते प्लास्टिक के प्रोडक्शन से बने प्रोडक्टस पर भी पाबंदी की बात चल रही है। इतना ही नहीं, आने वाले दिन में प्लास्टिक से बने बैग, कप और स्ट्रॉ पर भी रोक लगाने की पूरी तैयारी है। जिसके देश मे बढ़ते पॉल्यूशन को खत्म किया जा सकेगा। साथ ही लोगों को प्लास्टिक की जगह कई नए बिजनेस शुरू करने का मौका भी मिलेगा।

(10) फंडिंग के विरुद्ध शेयर ट्रांसफर पर रोक: फंडिंग के विरुद्ध शेयर ट्रांसफर पर रोक कुछ प्रोमोटर्स अपनी फंडिंग के एनबीएफसी के पास अपने शेयर उनके डीमैट में डालकर फंडिंग ले लेते थे। लेकिन आज से ये नहीं होगा। क्योंकि सेबी ने फंडिंग के विरुद्ध शेयर ट्रांसफर पर रोक लगाई है जो 1 अक्टूबर से लागू होगा।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here