इसके बिना नहीं निकाल सकेंगे अपने ATM से कैश, SBI ने बदले पुराने नियम

96

देशभर में कोरोना संकट का दौर अपने चरम पर है, इस दौरान बैंकिंग फ्रॉड के मामलों में भी इजाफा देखा गया है, रिजर्व बैंक के कड़े नियमों के बावजूद भी जालसाज धोखाधड़ी करने का कोई न कोई रास्ता ढूंढ ही निकालते हैं, इस बीच बढ़ते फ्रॉड के मामलों को देखते हुए देश की सरकारी बैंकों में से एक भारतीय स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने ग्राहकों को फ्रॉड मामलों से बचाने के लिए नया पैंतरा आजमाया है। इससे जालसाज फ्रॉड करना तो दूर सोच भी नहीं सकते। दरअसल एसबीआई ने अपने ग्राहकों को सुरक्षित बैंकिंग कराने के लिए नई एटीएम सर्विस शुरू की है। बता दें कि एसबीआई ने वन टाइम पासवर्ड (OTP) सुविधा को 24 घंटे लागू करने का फैसला किया है। ग्राहक अब एटीएम कैश विड्रॉल के लिए सुरक्षित बैंकिंग कर सकेगा। बताया जा रहा है कि बैंक 18 सितंबर से यह नियम देशभर में लागू करने जा रहा है। ऐसा करने से फ्रॉड के केसों में कटौती होगी, चूंकि इससे पहले जालसाज एटीएम की जानकारी चुरा लेते थे, कई हैकर्स इस काम को अंजाम दे चुके हैं।

ये भी पढ़ें:-देश की तीन बड़े सरकारी बैंकों ने घटाई ब्याज दरें, जानें ग्राहकों को कितना पहुंचा फायदा

बता दें कि एसबीआई की वन टाइम पासवर्ड की सुविधा मौजूदा समय में रात आठ बजे से सुबह आठ बजे तक उपलब्ध है। बैंक में ग्राहक की ओर से दिए गए रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी भेजा जाएगा, जिसके जरिए ग्राहक पैसों की निकासी कर सकेगा।

यानी 18 सितंबर से एसबीआई के एटीएम से 10,000 रुपये या इससे ज्यादा राशि निकालने पर दिन में भी ओटीपी की जरूरत होगी।

ध्यान रहे कि ओटीपी आधारित नकद निकासी की सुविधा केवल एसबीआई एटीएम में ही उपलब्ध है। अन्य बैंकों के एटीएम में यह कार्यक्षमता नेशनल फाइनेंशियल स्विच (NFS) में विकसित नहीं की गई है।

मालूम हो कि एक जनवरी 2020 से एसबीआई ने एटीएम से निकासी के लिए ओटीपी जरूरी किया था। एसबीआई ने कहा है कि ग्राहक बैंक में अपना मोबाइल नंबर अपडेट करा लें, ताकि पैसे की निकासी आसानी से की जा सके।

ये भी पढ़ें:-SBI कार्डधारकों को कर्ज चुकाने से मिलेगी राहत, जल्द होगी ये सुविधा लागू