अब बिना इंटरनेट सुविधा होगा ऑनलाइन पेमेंट, जानिए RBI के 5 बड़े बदलावों के बारे में

97
RBI five big changes

देश में फैली कोरोना महामारी (Corona epidemic) के मद्देनजर आरबीआई (Reserve Bank of India) ने बैंक ग्राहकों के लिए एक नहीं बल्कि कई बदलाव किए हैं और 5 बड़े फैसले लिए हैं. जिसमें चेक पेमेंट, ऑनलाइन पेमेंट, गोल्ड लोन, ODR सिस्टम तक शामिल है. इन बदलावों का उद्देश्य ग्राहकों इस संकट की घड़ी में राहत पहुंचाना है तो चलिए जानते हैं कि, आरबीआई द्वारा किए बदलावों का आपकी जेब पर कैसा असर पड़ेगा.

गोल्ड लोन
गोल्ड ज्वेलरी पर कर्ज की वैल्यू (Gold to Loan Value) पहले 75 फीसदी थी जिसे बढ़ाकर 90 फीसदी तक कर दिया गया है. वैसे जिस भी बैंक में गोल्ड लोन के एप्लाई किया जाता है वहां सबसे पहले सोने की शुद्धता की जांच की जाती है उसके बाद ही लोन की राशि तय होती है.

चेक पेमेंट सिस्टम
अगर आप 50,000 रुपए या उससे ज्यादा का चेक भुगतान करते हैं तो उसके लिए आरबीआई ने नया सिस्टम लागू कर दिया है. जिससे ये और भी सुरक्षित हो गया है. नए सिस्टम के अंतर्गत जब चेक जारी होगा तो उसमें जो जानकारी ग्राहक की दी होगी उससे बैंक संपर्क करेगा. ग्राहक से संपर्क करने का उद्देश्य है धोखाधड़ी. क्योंकि, कई बार चेक पेमेंट सिस्टम में धोखाधड़ी जैसे मामले सामने आते हैं. ऐसे में लाभार्थी को चेक देने से पहले चेक का विवरण, चेक के सामने और रिवर्स साइड की फोटो बैंक के साथ साझा करनी होगी. उसके बाद ही बैंक आगे की प्रक्रिया करेगा.

ऑनलाइन पेमेंट
अब तक ऑनलाइन पेमेंट के लिए इंटरनेट की आवश्यकता पड़ती थी. पर अब आरबीआई ने इसमें बदलाव किया है. जिसके अंतर्गत ग्राहक बिना इंटरनेट भी पेमेंट कर सकेंगे. यानि ऑफलाइन रिटेल पेमेंट्स अब कार्ड या मोबाइल डिवाइसेस के माध्यम से डिजिटल पेमेंट हो सकेगा. आरबीआई ये नया नियम इसलिए लाई है जिससे डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा मिले. नए प्रोजेक्ट के अंतर्गत जिन दुर्गम क्षेत्रों में इंटरनेट की सुवधिा नहीं है वहां भी ग्राहक आसानी से डेबिट, क्रेडिट या मोबाइल डिवाइस के जरिए लेनदेन कर सकेंगे.

ODR सिस्टम
जैसे जैसे ग्राहक डिजिटल पेमेंट की तरफ रुख कर रहे हैं वैसे-वैसे बहुत सारी समस्याएं सामने आ रही हैं. कई बार ऐसा होता है जब डिजिटल ट्रांजैक्शन फेल हो जाता है इसलिए अब ऑनलाइन डिस्प्यूट रिजोल्यूशन (ODR) सिस्टम लाया जा रहा है. जिससे इन विवादों को निपटाया जा सके.

स्टार्टअप्स
आरबीआई ने कई बदलावों में स्टार्टअप्स को प्रायोरिटी सेक्टर लेंडिंग (PSL) में शामिल कर लिया है. अब इससे बैंकों से फंड आसानी से जुटाया जा सकेगा. अब तर स्टार्टअप्स में सिर्फ कृषि, MSME, शिक्षा, हाउसिंग आदि शामिल थे. पर जिन 5 बड़े बदलावों को आरबीआई द्वारा किया गया है उससे निश्चित तौर पर बैंक ग्राहकों को राहत महसूस होगी.

ये भी बढ़ेंः- इन लोगों को ही मिल रहा है किसान सम्मान निधि का लाभ, तुरंत जान लें यह जरूरी बात