PF का पैसा हो जाएगा डबल, करना होगा ये काम

0
71
pf
Loading...

1 अप्रैल से 2019-20 का फाइनेंशियल ईयर शुरू हो गया है। इस नए साल का पहला महीना भी लग खत्म हो गया। जिसके चलते अब नौकरी करने वालों की निगाहें अपनी सैलरी पर है। कयोंकि नए साल का पहला महीना नौकरी करने वालों के लिए काफी अहम होता है। यहा महीना होता है। जब कंपनी अपने एमपलॉई को प्रमोशन और इन्क्रीमेंट देती है। साथ ही, कंपनियों अपने कर्मचारियों के सैलरी स्ट्रक्चर में बदलाव करती हैं।

जिसके चलते अब नौकरीपेशा लोगों को पैसे डबल करने का एक मौका मिला है। नौकरीपेशा लोग अब अपने पीएफ का पैसा डबल कर सकते है। लेकिन इसके लिए आपको अपनी कंपनी से बात करनी होगी। दरअसल आप अपनी कंपनी से पीएम कंट्रीब्यूशन को बढ़वा सकते है। हालांकि ऐसा करने से आपके हाथ में हर महीनें सैलरी कम आएगी। लेकिन अगर अपने ऐसा किया। तो आपका पीएण कंट्रीब्यूशन बढ़ जाएगा। जिससे आपके खाते में ज्यादा पीएम फंड जमा होगा।

वही आपको बता दें, कि अगर समय रहते हुए इस पीएफ कंट्रीब्यूशन को बढाया जाए तो रिटारयमेंट के वक्त आपका फंड डबल हो सकता है। फिलहाल नौकरीपैशा लोगों को एम्प्लॉइज प्रोविडेंट फंड यानी EPF पर 8.65 फीसदी ब्यालज मिलता है। पीएफ कंट्रीब्यूपशन बढ़ाने से आपकी पीएफ राशि पर मिलने वाला ब्याज भी अधिक होगा।

इतना ही नहीं, अगर कोई भी कर्मचारी अपने मासिक योग को दोगुना करा ले तो उसके पीएफ फंड की राशि खुद ब खुद दोगुनी हो जाएगी। मान लीजिए मौजूदा व्यवस्था में बेसिक सैलरी पर 12 फीसदी पीएफ का योगदान होता है। लेकिन, अगर कर्मचारी इसे बढ़वा कर 24 फीसदी कर ले तो उसका पीएफ फंड भी दोगुना हो जाएगा।

मिलेगा चक्रवृद्धि ब्याज का फायदा
पीएफ फंड दोगुना तेजी से बढ़ने के अलावा आपको इसे पर डबल ब्याज का भी फायदा मिलेगा। दरअसल, पीएफ पर ब्याज की गणना चक्रवृद्धि ब्याज फार्मूला से होती है।

इसे कंपाउंडिंग इंटरेस्ट भी कहा जाता है। ऐसी स्थिति में फंड दोगुना जमा होगा और हर साल ब्याज पर ब्याज का फायदा भी मिलेगा। इस तरह आपके रिटायरमेंट के लिए मोटा फंड तैयार होगा।

क्या कहता है नियम
कर्मचारियों के लिए EPFO में कई नियमों में छूट दी गई है। जिसमें कर्मचारी कंपनी से कहकर अपना पीएफ कंट्रीब्यूशन बढ़वा सकता है। इम्पंलाई प्रॉविडेंट फंड एक्टर के तहत उसे यह छूट दी जाती है।

नियम के मुताबिक, प्रोविडेंट फंड में बेसिक सैलरी और डीए का 12 फीसदी कर्मचारी के हिस्से में जमा होता है। वहीं, इतना ही हिस्सा कंपनी की ओर से कर्मचारी के खाते में जमा कराया जाता है।

नियम के अनुसार, कोई भी कर्मचारी अपने मंथली कंट्रीब्यूकशन को बेसिक सैलरी के 100 फीसदी तक बढ़वा सकता है।

Loading...

अपनी राय दें