टूटा 7 साल का रिकॉर्ड, सोने की कीमत में आई भारी गिरावट, जानें ताजा दाम 

4940

सर्राफा बाजारों में कभी उतार तो कभी चढ़ाव का दौर जारी रहता है। कभी कीमतें आसमान छू रही होती है, तो कभी फलक से सीधा धड़ाम धरातल पर पहुंच जाती है। आमतौर पर ऐसा ही देखा जाता है कि मंदी के दौर में सोने चांदी की के दाम आसमान छू जाते हैं। उधर, जब इसके विपरीत स्थिति दुरूस्त होती है तो सोने चांदी की कीमतों में गिरावट दर्ज की जाती है। अभी देख लीजिए, अब जब खबर आई है कि महामारी के इस दौर में कोरोना की वैक्सीन बनकर तैयार हो चुकी है तो अब निवेशकों का रूझान सर्राफा बाजारों से मुड़कर सीधा शेयर मार्केट में पहुंच चुका है, लिहाजा सोने चांदी की कीमतों में गिरावट दर्ज की गई है और वो भी कोई छोटी मोटी गिरावट नहीं बल्कि पिछले 7 सालों का  रिकॉर्ड टूटा है। उधर, सोने चांदी की कीमत में गिरावट के संदर्भ में विशेषज्ञों का कहना है कि मौजूदा समय में सोने की कीमत में 5-8 फीसदी तक की गिरने की संभावना है।

ये भी पढ़े :सर्राफा बाजार में बढ़े सोने के दाम, चांदी की चमक पड़ी फीकी, इस वजह से रेट हो रहे अप-डाउन

इसे वजह से गिरे सोने के दाम 
वहीं सोने के दाम में आई भारी गिरावट को लेकर विशेषज्ञों का कहना है कि जैसे ही कोरोना वैक्सीन बनने की खबर सामने आई है तो निवेशकोंं का रूझान शेयर बाजारों की ओर मुड़ा है। अभी गत दिनों अमेरिकी शेयर बाजार में मंगलवार की रात खरीदारी देखने को मिली। अमेरिकी शेयर बाजार का प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स S&P 500 नए रिकॉर्ड स्तर के बेहद करीब पहुंच गया। विशेषज्ञों का कहना है कि शेयर बाजारों में आई इसी तेजी का एकमात्र कारण कोरोना वैक्सीन है।

तो अब भारत में भी होगा सोना सस्ता 
अब सोने चांदी की कीमत में आई गिरावट को लेकर माना जा रहा है कि क्या अब भारत में भी सोना सस्ता होगा, तो इसका सीधा सा जवाब है कि हां बिल्कुल अंतरराष्ट्रीय बाजारोंं में आई इस गिरावट का असर भारतीय सर्राफा बाजारों में भी बेशक देखने को मिलेगा। सोने की कीमतों पर दबाव बढ़ता जाएगा। मौजूदा स्तर में सोने की कीमतों में 5-8 फीसदी की गिरावट देखने को मिल सकती है।

विशेषज्ञों का क्या कहना है 
वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि सोना हमेशा से मुश्किल समय में ही चमकता है। 1970 के दशक में आई मंदी में सोने की कीमतें नए शिखर पर पहुंची। इसके बाद 2008 की आर्थिक मंदी के दौर में सोना अपने फलक में पहुंचता हुआ दिखा था।  यह 2008 के वैश्विक वित्तीय संकट के बाद फिर से बढ़ गया, जो 2011 में 1900 डॉलर के पार चला गया लेकिन फिर काफी गिर गया था, मगर अब कोरोना के दौर में सोने की कीमत शीर्ष स्तर पर पहुंचता हुआ दिखा था, लेकिन अब जब कोरोन वैक्सीन आने की खबर सामने आई है, तो सोने की कीमत में फिर से गिरावट दर्ज की गई है।

ये भी पढ़े :सोना रखने वाले लोगों के लिए बड़ी खबर, अवैध सोने को वैध बनाने के लिए सरकार लेकर आई ये बड़ा प्लान