gold jewellery gst

नई दिल्ली। सोने के आभूषण खरीद और बिक्री पर लगने वाले GST को लेकर Authority for Advance Ruling (AAR) ने एक बड़ा निर्णय लिया है। इस निर्णय से सेकेंड हैंड सोने के आभूषण के दोबारा खरीदने पर GST बेहद कम हो जाएगा। सेकेंड हैंड ज्वेलरी खरीदने वालों को इसका फायदा होगा। जिसके कारण अब उनको कम टैक्स देना पड़ेगा।

GST payable only on profit earned from resale of gold jewelleryइस निर्णय के अनुसार ज्वेलर्स को सेकेंड हैंड सोने के आभूषण की रीसेल पर जो फायदा मिलेगा केवल उसी पर GST लगेगा। इस बारे में बैंगलुरू की कंपनी Aadhya Gold Private Ltd ने AAR में एक प्रार्थना-पत्र दिया था। इस एप्लीकेशन में सफाई मांगी गई थी कि क्या GST केवल सेकेंड हैंड सोने के आभूषणों की खरीद और बिक्री के बीच कीमतों के अंतर पर ही लगेगा, यदि आभूषण को बेचते वक्त इसके फॉर्म या प्रकृति में फेरबदल नहीं किया जायेगा।

GST on gold jewellery – City News – Indiaये है फैसला

AAR की कर्नाटक बेंच ने कहा कि ज्वेलर ज्वेलरी को पिघलाकर बुलियन में नहीं परिवर्तित रहा है और फिर उससे नए आभूषण नहीं बना रहा है, बल्कि उसकी सफाई और पॉलिशिंग करके बिना उसके फॉर्म को बदले उसे बेच रहा है, इसलिए आभूषण की खरीद-बिक्री के बीच का जो भी फायदा होगा, केवल उसी पर GST लगाया जाएगा।

Is gold a smart investment? Gulf News speaks to UAE buyers and experts |  Uae – Gulf Newsएक्सपर्ट का कहना

एक्सपर्ट ने बताया कि इस निर्णय के कारण सेकेंड हैंड आभूषण के रिसेल पर GST बेहद कम हो जाएगा। अभी खरीदारों से गोल्ड की ज्वेलरी की कुल वैल्यू पर 3 फीसदी चार्ज इंडस्ट्री वसूलती है। मगर इस रूल के बाद ऐसा नहीं होगा। कुल दाम के बजाय केवल मुनाफे पर ही GST लगाया जाएगा। मान लीजिए किसी सोने की ज्वेलरी की कीमत 1 लाख रुपये है तो उस पर 3 फीसदी GST हुआ 3000 रुपये, अब यदि यही मुनाफे पर लगाया जाए। उदाहरण के लिए ये ज्वेलरी 80 हजार रुपये में खरीदी गई और 1 लाख रुपये में बेची गई तो मुनाफा आया 20,000 रुपये। तो 20000 पर 3 फीसदी GST हुआ 600 रुपये।

इसे भी पढ़ें:- 16 लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा गया यह आईआरएस अधिकारी, गाजीपुर अफीम फैक्ट्री में हैं महाप्रबंधक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here