Electric Vehicles Subsidy: पेट्रोल-डीजल के झंझट को छोड़ जल्द अपनाएं इलेक्ट्रिक वाहन, मिलेगा लाभ

Electric Vehicles

पेट्रोल-डीजल(Petrol and diesel) के बढ़ते दामों की बढ़त को देख लोग परेशान होते जा रहे हैं कि आखिर किस तरह इस खर्चे से बाहर निकला जाए. आपकी इस परेशानी के इलाज आज हम लेकर आए है. हम आपकों बताएंगे कि किस तरह पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों से छुटकारा पाया जाए. इसका सीधा साधन इलेक्ट्रिक गाड़ियां हैं. अब लोगों का रुझान इनकी ओर बढ़ता जा रहा है. लोगों का रूझान पेट्रोल-डीजल की गाड़ियों से हटकर इलेक्ट्रिक गाड़ियों की ओर आ रहा है,  इसके लिए केंद्र सरकार से लेकर कई राज्य सरकारें योजनाएं भी चला रही हैं. दिल्ली सरकार ने एक कैम्पेन भी शुरू किया है जिसके जरिए लोगों को इलेक्ट्रिक गाड़ियों के फायदे गिनाए जाएंगे, साथ ही सब्सिडी की भी जानकारी दी जाएगी.

ये भी पढ़ें-यमुना एक्सप्रेस-वे पर मौत का भयानक मंजर, कार के ऊपर पलटा टैंक, 7 लोगों की मौत

ये कैम्पेन हुआ लॉन्च

दिल्ली में डायलॉग एंड डेवलपमेंट कमीशन (DDC) ने ‘स्विच दिल्ली कैम्पेन (Switch Delhi campaign)’ की शुरुआत की है, जिसके चलते बताया जा रहा है कि निजी वाहन रखने वाले लोग (Private Vehicle Owners) इलेक्ट्रिक गाड़ियों को प्राथमिकता दें. बता दें कि इस कैम्पेन को ट्रांसपोर्ट मंत्री कैलाश गहलोत (Delhi Transport Minister Kailash Gahlot) ने WRI के साथ मिलकर लॉन्च किया है. WRI एक रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन है, जो पर्यावरण और सामाजिक सरोकार के विकास कामों को प्रोत्साहित करता है. कैम्पेन के लॉन्च  पर कैलाश गहलोत ने कहा कि ‘ये कैम्पेन उस वादे को और मजबूती देने के लिए लॉन्च किया गया है जिसमें दिल्ली को इलेक्ट्रिक गाड़ियों की क्रांति का हिस्सा बनाया जाएगा और भारत में दिल्ली इलेक्ट्रिक व्हीकल की राजधानी बनेगी. मैं दिल्लीवासियों से कहता हूं कि वो भी इस वचन को लें जो इलेक्ट्रिक व्हीकल की ओर स्विच करना चाहते हैं और अगले तीन साल में अपने क्षेत्र में चार्जिंग प्वाइंट लगवाना चाहते हैं. मैंने आज ये प्रण लिया है और उम्मीद करता हूं कि सभी लोग ऐसा करेंगे’

इतने इलेक्ट्रिक व्हीकल्स का हुआ पंजीकरण

कैलाश गहलोत ने सूचित किया कि इस अभियान के तहत अभी तक दिल्ली में 7000 नए इलेक्ट्रिक व्हीकल रजिस्टर्ड किए गए हैं. 210 अप्रूव्ड मॉडल्स पर कुल 13.5 करोड़ रुपये की सब्सिडी अभी तक दी जा चुकी है. 100 इलेक्ट्रिक व्हीकल समर्थक के साथ इस कैम्पेन के वेबीनार में हिस्सा लिया, जिसमें EV क्षेत्र के एक्सपर्ट्स भी शामिल रहे.

अरविंद केजरीवाल ने कही थी ये बात

बीते 4 फरवरी को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि ‘2024 तक दिल्ली में जितनी भी गाड़ियां खरीदी जाती हैं, उसमें से कम से कम 25 परसेंट इलेक्ट्रिक गाड़ियां होनी चाहिए, ऐसा खाका तैयार करना है. इसके लिए लोग ज्यादा से ज्यादा इलेक्ट्रिक व्हीकल खरीदें, दिल्ली सरकार ने बड़े स्तर पर सब्सिडी का प्लान बनाया है’.

सब्सिडी की भी मिलेगी सुविधा

अरविंद केजरीवाल ने इस मामले मे कहा गया कि ‘जैसे आप टू-व्हीलर या थ्री व्हीलर खरीदते हैं, तो आप को 30,000 रुपये तक की सब्सिडी आपको मिल सकती है. अगर आप 4-व्हीलर खरीदते हैं तो आपको लगभग 1.5 लाख रुपये तक की सब्सिडी मिलती है. ये सब्सिडी भी आपके व्हीकल खरीदने के 3 दिन के अंदर आपके अकाउंट में आ जाती है. और जितने भी इलेक्ट्रिक व्हीकल खरीदे जाएंगे उस पर कोई रोड टैक्स नहीं लगेगा, रजिस्ट्रेशन चार्जेस नहीं लगेंगे, वो भी फ्री होगा.’

दिल्ली के कैम्पेन में है अलग विशषता

ओ पी अग्रवाल जो कि WRI इंडिया के है उन्होंनें कहा कि ‘दूसरे राज्यों में EV की नीतियां एक औद्योगिक पॉलिसी ज्यादा हैं, जिन्हें राज्य में निवेश को आकर्षित करने के लिए लाया गया है, लेकिन दिल्ली सरकार की इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी देश के लिए एक उदाहरण के तौर पर साबित हो रही है, जिसमें लोगों को भारी सब्सिडी और इनसेंटिव्स दी जा रही है, जो इलेक्ट्रिक व्हीकल की ओर स्विच कर रहे हैं और इस क्रांति का हिस्सा बन रहे हैं.’  इस अभियान के तहत लोगों को जागरूक करने का है. 8 हफ्ते तक ये जागरुकता अभियान चलाया जाएगा. DDC का कहना है कि ‘इस कैम्पेन का लक्ष्य दिल्ली के हर व्यक्ति को प्रदूषण फैलाने वाली गाड़ियों से जीरो-एमिशन वाली इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए जागरुक करना और प्रोत्साहित करना लक्ष्य है.’

ये भी पढ़ें-ऑफिस खुलने का मेल पढ़ भड़क गई महिला, कहा- शेर के मुंह में अब खून…

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *