टैक्स को लेकर आई बड़ी खबर, संसदीय समिति ने इस तरह के TAX को हटाने की जारी की सिफारिश

34
Tax- LTCG

कोरोना महामारी का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है. तो वहीं इसी बीच स्टार्टअप में निवेश बढ़ाने को लेकर हाल ही में संसदीय समिति ने सिफारिश जारी की है. जिसके जरिए कहा गया है कि एलटीसीजी (LTCG -Long Term Capital Gains) टैक्स को दो साल के लिए समाप्त कर देना चाहिए. यदि ऐसा होता है तो इस महामारी के समय में निवेश बढ़ाने में काफी ज्यादा मदद मिलेगी. दरअसल लांग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स को अभी समझने की जरूरत है. बता दें कि जब किसी भी बड़ी संपत्ति को बेचने के बाद आप फायदा कमाते हैं तो उसी लाभ को ही कैपिटल गेन्स कहा जाता है. लेकिन यदि आप संपत्ति को एक समय सीमा के बाद बेचते हैं तो इसे लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स का नाम दिया जाता है. क्योंकि लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स को लेकर तय किए हुए समय में बदलाव होता रहता है.

ये भी पढ़ें:- जान लें आयकर विभाग का यह नियम, गलती करने पर लगेगा 83 फीसदी से ज्यादा टैक्स

बता दें कि संपत्ति के हिसाब से लॉन्ग टर्म फिक्स होता है. यानी कि जब शेयर को एक साल बाद बेच दिया जाए तो फायदा लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स होगा. लेकिन जब बॉन्ड तीन साल के बाद बेचा जाता है तब लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स के लिए ये योग्य होता है. दरअसल किसी संपत्ति के लिए ये समय सीमा तीन साल, तो किसी और संपत्ति के लिए इसकी समय अवधि दो साल की होती है. इसके अलावा कई प्रॉपर्टी के लिए इसका समय एक साल भी होता है. हालांकि किसी प्रॉपर्टी से संबंधित केस में लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स (Long Term Capital Gain) किसे मानेंगे, सबसे पहले इसके बारे में जानना होगा.

जानें स्टार्टअप का मतलब 
स्टार्टअप का सही मतलब क्या होता है ये तो आप भी जानते होंगे. दरअसल किसी भी कंपनी की शुरूआत करने को ही स्टार्टअप कहा जाता है. इस तरह की कंपनियों की शुरूआत यंग बिजनेसमैन खुद या फिर अपने साथ कुछ और पार्टनर को लेकर करते है. जाहिर सी बात है कि जो व्यक्ति इस पूरी कंपनी की रूप रेखा को सोचता है और शुरू करता है वही सबसे पहले इसमें अपना पैसा लगाने के साथ इसे चलाता भी है. इस तरह की कंपनियां ज्यादातर Relatively नए प्रोडक्ट्स या फिर सर्विस पर काम करती हैं, यानी कि ऐसे सर्विसेज जो उस दौरान किसी भी बाजार में नहीं दिखाई देते. खैर सरकारी भाषा में स्टार्टअप का मतलब समझे तो ये वो कंपनियां हैं जो भारत में बीते 5 साल के अंदर रजिस्टर हुई हैं. साथ ही जिनका टर्न ओवर किसी भी फाइनेंशियल ईयर में 25 करोड़ से ज्यादा नहीं रहा है.

ये भी पढ़ें:- इनकम टैक्स ने दी आपका पैन कार्ड रद्द करने की चेतावनी, 31 मार्च से पहले करे ये काम